मंगलवार, 31 मार्च 2009

हाल ?




हमसे मत पूछो ,
ज़माने का कोई हाल ।
लगता नहीं है देखके ?
सब लोग हैं बेहाल !

आते हैं , जाते रहते हैं ।
हर सै कोई बवाल ।
फुर्सत मिली तो पूछेंगे ।
कैसे हैं हालचाल ।

फिलहाल उलझे बैठे हैं ,
ख़ुद का नहीं ख़याल ।
घेरे में लिए बैठे हैं ,
कितने तो हैं सवाल ।

तो क्या हुआ दुनिया नहीं ,
कोई मेरे पीछे !
मालूम मेरे पीछे है ,
उसका कोई जलाल ।

फ़िर क्या कोई मलाल,
तो फ़िर क्या कोई सवाल ??

9 टिप्‍पणियां:

  1. filhaal ulje baithe hain.....

    It's daily routine here. Very true.

    उत्तर देंहटाएं
  2. मालूम मेरे पीछे है ,
    उसका कोई जलाल ।
    बहुत खूब राज साहेब...वाह...और हाँ आज ब्लॉग पर आपकी फरमाईश पर मुम्बैया काफिये वाली ग़ज़ल पोस्ट की है , फुर्सत मिले तो पढियेगा...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  3. "फिलहाल उलझे बैठे हैं ,
    ख़ुद का नहीं ख़याल ।
    घेरे में लिए बैठे हैं ,
    कितने तो हैं सवाल ।
    " ख्याल हम भी करते अपना...गर फुर्सत में होते कभी....
    तेरी यादों के भंवर ने उलझाए रखा उम्र भर मुझको......"

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  4. हमसे मत पूछो ,
    ज़माने का कोई हाल ।
    लगता नहीं है देखके ?
    सब लोग हैं बेहाल !

    सच ही कहा है आपने, सब परेशान पर इस परेशानी का हल किसी के पास नहीं और उससे भी मज़ेदार बात यह की आपकी परेशानी सुन कर हल और हिदायत भी देने से नहीं चूकते.

    चन्द्र मोहन गुप्त

    उत्तर देंहटाएं
  5. फिलहाल उलझे बैठे हैं ,
    ख़ुद का नहीं ख़याल ।
    घेरे में लिए बैठे हैं ,
    कितने तो हैं सवाल ।

    तो क्या हुआ दुनिया नहीं ,
    कोई मेरे पीछे !
    मालूम मेरे पीछे है ,
    उसका कोई जलाल ।

    बहोत सुंदर ......!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. ना कोई मलाल ,ना कोई सवाल

    ना कोई ख्याल ,जमाने का हाल्

    उत्तर देंहटाएं
  7. घेरे में लिए बैठे हैं ,
    कितने तो हैं सवाल ।

    shayad aajtak har ek sawaal ke jawaab dhundh rahe hai....
    sundar rachna....

    उत्तर देंहटाएं
  8. पहले तो मैं आपका तहे दिल से शुक्रियादा करना चाहती हूँ की आपको मेरा खाना मसाला ब्लॉग पसंद आए ! क्या बात है एपी भी मेरे जैसे खाने के शौकीन है और यह बात तो और भी अच्छी लगी कि आपको खाना बनाना बेहद पसंद है ! बहुत कम मर्दों को खाना बनाना आता है! मेरे पापा इतने सुंदर खाना बनाते हैं कि होटल से भी की गुना अच्छा और मैंने अपने पापा मम्मी दोनों से ही सिखा है! मैं आपको माछेर झोल ज़रूर सिखाउंगी !
    आपने बहुत ही सुन्दर लिखा है ! आप तो खाना बनाने के साथ साथ एक बहुत अच्छे लेखक भी है ! बहुत ही शानदार लिखा है आपने !

    उत्तर देंहटाएं
  9. फिलहाल उलझे बैठे हैं ,
    ख़ुद का नहीं ख़याल ।
    घेरे में लिए बैठे हैं ,
    कितने तो हैं सवाल ।
    yahi haal hai aaj kal har kisika...swaal jawabon se bahar kahan hai zindagi..

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय हमारी प्रेरणा..आपका मार्गदर्शन हमारा धन .